Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Nov 29 2021

भारतीय अंतरिक्ष संघ का शुभारंभ

पृष्ठभूमि

  • स्वतंत्रता प्राप्ति से अब तक भारतीय अंतरिक्ष क्षेत्र पर भारत सरकार एवं सरकारी संस्थानों का एकल एकाधिकार रहा है।
  • इस अवधि में सरकार के स्वामित्व वाली संस्था इसरो ने अंतरिक्ष क्षेत्र में भारत की प्रगति में अग्रणी भूमिका निभाई है।
  • हालांकि हाल के वर्षों में निजी कंपनियों ने भी भारतीय अंतरिक्ष क्षेत्र में रुचि प्रदर्शित की है।
  • अत: सार्वजनिक क्षेत्र के साथ-साथ निजी क्षेत्र हेतु भी भारतीय अंतरिक्ष क्षेत्र के द्वार खोलने के उद्देश्य से ‘भारतीय अंतरिक्ष संघ’ नामक एक नई संस्था की परिकल्पना की गई है। 

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 11 अक्टूबर, 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘भारतीय अंतरिक्ष संघ’ (ISpA: Indian Space Association) का शुभारंभ किया। 
  • यह अंतरिक्ष तथा उपग्रह कंपनियों का एक अग्रणी उद्योग संघ है। 
  • भारतीय अंतरिक्ष संघ की टैगलाइन (Tagline) है :-भूमण्डल से ब्रह्माण्ड तक’।

ISpA के हितधारक

  • ISpA में अंतरिक्ष एवं उपग्रह प्रौद्योगििकयों में उन्‍नत क्षमताओं से लैस अग्रणी घरेलू एवं वैश्विक कंपनियों का प्रतिनिधित्व होगा।
  • ISpA के संस्थापक सदस्यों में लार्सन एंड टूब्रो, नेलको (टाटा समूह),वनवेब, भारती एयरटेल, मैप माई इण्डिया, वालचंदर इण्डस्ट्रीज तथा अनंत टेक्‍नोलॉजी लिमिटेड शामिल हैं।
  • इसके अन्य प्रमुख सदस्यों (Core members) में गोदरेज, ह्यूजेस इण्डिया, अजिस्ता-बीएसटी एयरोस्पेस प्राइवेट लिमिटेड, BEL, सेंटम इलेक्‍ट्रॉनिक्स एवं मैक्सार इण्डिया शामिल हैं।
  • ISpA के महानिदेशक ले. जनरल ए.के. भट्ट (सेवानिवृत्त) हैं।

उद्देश्य

  • ISpA का उद्देश्य भारत के अंतरिक्ष उद्योग के विकास को गति प्रदान करना तथा इस क्षेत्र में देश को एक अग्रणी प्रतिभागी बनाना है।
  • ISpA भारतीय अंतरिक्ष  उद्योग की एक सामूहिक आवाज बनने की आशा रखता है।
  • ISpA अंतरिक्ष संबंधी नीतियों की वकालत करेगा और सरकार एवं उसकी एजेंसियों सहित भारतीय अंतरिक्ष क्षेत्र के सभी हितधारकों के साथ अपना जुड़ाव सुनिश्चित करेगा।

संकलन-सौरभ मेहरोत्रा
 


Comments
List view
Grid view

Current News List