Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Nov 27 2021

अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन (ISA) की चौथी महासभा

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 18-21 अक्‍टूबर, 2021 के मध्य अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन की चौथी महासभा का आयोजन किया गया।
  • इसका आयोजन आभासी माध्यम से नई दिल्‍ली में किया गया।
  • इस महासभा की अध्यक्षता केंद्रीय विद्युत, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री एवं अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन अध्यक्ष आर.के. सिंह द्वारा की गई।
  • इस महासभा में 74 सदस्य देशों एवं 34 पर्यवेक्षकों सहित कुल 108 देशों ने भाग लिया।
  • इस सभा में 23 भागीदार एवं 33 विशेष आमंत्रित संगठनों ने भी भाग लिया।

प्रमुख बिंदु

  • अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन दुनियाभर के 80 करोड़ लोगों के लिए ऊर्जा पहुंच सुनिश्चित करने में सक्षम है।
  • अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन सदस्य देशों में क्रेडिट गारंटी और हरित ऊर्जा निवेश को बढ़ाने में मदद करेगा।
  • गठबंधन ने विकसित देशों से स्वच्‍छ एवं हरित ऊर्जा को बढ़ावा देने का आह्वान किया।
  • आईएसए ने वर्ष 2030 तक सौर क्षेत्र में 1 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर के निवेश का लक्ष्य निर्धारित किया है। यह दुनिया को आवश्यक ऊर्जा संक्रमण के करीब लाने में मदद करेगा।
  • आईएसए ने आईएसए सदस्य देशों में सौर ऊर्जा के लिए 1 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर का वैश्विक निवेश जुटाने के लिए  ब्लूमबर्ग फिलैंथ्रोपीज के साथ भागीदारी की घोषणा की।
    • ब्लूमबर्ग फिलैंथ्रोपीज एक परोपकारी संगठन है, जो पर्यावरण, सार्वजनिक स्वास्थ्य, कला, सरकारी नवाचार एवं शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करता है।
  • ये दोनों संगठन (आईएसए एवं ब्लूमबर्ग फिलैंथ्रोपीज) एक सौर निवेश कार्य एजेंडा और सौर निवेश रोडमैप विकसित करने के लिए विश्व संसाधन संस्थान (World Resources Institute-WRI) के साथ मिलकर कार्य करेंगे।
    • जिसे कॉप-26 (CoP-26) में उद््‍घाटित (Launch) किया गया।
  • ग्रीन ग्रिड इनिशिएटिव वन सन, वन व्‍ार्ल्ड, वन ग्रिड (GGI-OSOWOG) के शुभारंभ हेतु ‘वन सन’ (One Sun) घोषणा को मंजूरी दी गई।
    • भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जाॅनसन ने संयुक्त रूप से ग्‍लासगो में आयोजित कॉप (CoP-26) के दौरान 2 नवंबर, 2021 को वन सन, वन वर्ल्ड, वन ग्रिड (One Sun, One World, One Grid-OSOWOG) पहल का शुभारंभ किया।

अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन

  • आईएसए की शुरुआत भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और फ्रांस के तत्‍कालीन राष्ट्रपति ने नवंबर, 2015 में पेरिस सम्मेलन (CoP-21) के दौरान संयुक्त रूप से की थी।
  • इसका उद्देश्य सौर ऊर्जा के तीव्र प्रसार के द्वारा पेरिस समझौता (2015) को लागू करना।
  • हस्ताक्षरकर्ता - 101 देश
  • सदस्य - 80 देश (हस्ताक्षर एवं अनुसमर्थन)
  • संयुक्त राज्‍य अमेरिका (USA), आईएसए फ्रेमवर्क समझौते पर हस्ताक्षर करने वाला अंतिम देश है।
  • मुख्यालय - गुरुग्राम (भारत)
  • महानिदेशक - अजय कुमार माथुर (भारत)

संकलन-अशोक कुमार तिवारी


Comments
List view
Grid view

Current News List