Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Nov 26 2021

एसडीजी शहरी सूचकांक और डैशबोर्ड, 2021-22

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 23 नवंबर, 2021 को भारत-जर्मन सहयोग के तहत नीति आयोग ने पहला सतत विकास लक्ष्य (SDG) शहरी सूचकांक और डैशबोर्ड,  2021-22 जारी किया।
  • यह सूचकांक और डैशबोर्ड, नीति आयोग और जर्मनी की अंतरराष्ट्रीय सहयोग एजेंसी GIZ तथा बीएमजेड (BMZ: The Federal Ministry for Economic Cooperation and Development)
    • यह भारत एवं जर्मनी के सहयोग के तहत शहरों में एसडीजी (SDG) स्थानीयकरण पर केंद्रित है।
  • इसमें 16 लक्ष्यों, 46 उपलक्ष्यों एवं 77 संकेतकों के आधार पर 56 शहरों को रैंक प्रदान किया गया है।
  • ध्यातव्य है कि सतत विकास लक्ष्य में 17 लक्ष्य, 169 उपलक्ष्य एवं 232 संकेतक निर्धारित किए गए हैं।

कार्यविधि

  • प्रत्येक शहरी क्षेत्र को 0-100  पैमाने पर रैंक प्रदान की गई है।
  • ‘100’ स्कोर का तात्पर्य है कि शहरी क्षेत्र ने वर्ष 2030 के लिए निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त कर लिया है।
  • जबकि ‘0’ (शून्य) का अर्थ है कि चयनित शहरी क्षेत्र लक्ष्यों को प्राप्त करने में सबसे पीछे है।
  • शहरी क्षेत्र के समग्र प्रदर्शन को मापने के लिए लक्ष्यवार स्कोर से शहरी क्षेत्र के समग्र स्कोर निकाले गए हैं।
  • शहरी क्षेत्रों को उनके समग्र स्कोर के आधार पर वगीकृत किय गया है, जो निम्नलिखित हैं-
    • आकांक्षी (Aspirant):0-49
    •  अच्‍छा प्रदर्शन करने वाला (Performer):50-64
    •  बहुत अच्‍छा प्रदर्शन करने वाला (Front-Runner):65-69
    •  लक्ष्य को प्राप्त करने वाला (Achiever):100
  • गणना में 56 शहरों पर विचार किया गया है, जिसमें दस लाख से अधिक आबादी वाले 44 शहर तथा दस लाख से कम आबादी वाले 12 शहर (राज्यों की राजधानियां) शामिल हैं।

प्रमुख निष्कर्ष

  • इस सूचकांक में शिमला, कोयंबटूर, चंडीगढ़, तिरुवनंतपुरम, एवं कोच्‍चि शीर्ष 5 रैंक प्राप्तकर्ता शहर हैं।

शीर्ष 5 शहरी क्षेत्र :

  • फरीदाबाद, कोलकाता, आगरा, कोहिमा एवं जोधपुर 5 निम्नतम रैंक प्राप्त करने वाले शहर हैं।

5 निचली रैंक वाले शहर


लक्ष्यवार शीर्ष प्रदर्शक

संकलन-अशोक कुमार तिवारी


Comments
List view
Grid view

Current News List