Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Oct 04 2021

चेन्‍नई सेंट्रल रेलवे स्टेशन बना हरित स्टेशन

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • रेलवे मंत्रालय ने 24 सितंबर, 2021 को पुराची थलाइवर डॉ. एम. जी. रामचंद्रन सेंट्रल या चेन्‍नई सेंट्रल स्टेशन (तमिलनाडु) को पूर्णतया (100 प्रतिशत) सौर ऊर्जा से संचालित होने वाला स्टेशन घोषित किया।
  • अब यह स्टेशन अपनी संपूर्ण ऊर्जा आवश्यकताओं को सौर ऊर्जा से पूर्ण करेगा।
  • इससे पूर्व विजयवाड़ा (आंध्र प्रदेश) रेलवे स्टेशन सौर ऊर्जा से संचालित होने वाल देश का प्रथम स्टेशन बना था।
    • यह स्टेशन अपनी कुल ऊर्जा आवश्यकतओं का 18 प्रतिशत सौर ऊर्जा से प्राप्‍त करता है।

पृष्ठभूमि

  • विश्व का सबसे बड़ा हरित रेलवे नेटवर्क बनने के लिए भारतीय रेलवे ने वर्ष 2030 तक शुद्ध शून्‍य उत्‍सर्जन का लक्ष्य रखा है।
  • विश्व पर्यावरण दिवस (21 जून) के अवसर पर भारतीय रेलवे ने पुन: हरित शुरुआत (Green Restart) लक्ष्य की घोषणा की थी।
  • जिसके अंतर्गत सौर ऊर्जा को बढ़ावा देना तथा रेलवे को हरित रेलवे में बदलना शामिल था।
  • उसी दिशा में यह एक प्रारंभिक पहल है।

उद्देश्य 

  • हरित ऊर्जा को बढ़ावा देना।
  • वैश्विक तापन के प्रभाव को कम करना।
  • वर्ष 2030 तक भारतीय रेलवे के शुद्धशून्‍य कार्बन उत्‍सर्जन के लक्ष्य को प्राप्‍त करना।
  • सतत विकास लक्ष्यों की प्राप्‍ति की ओर बढ़ना।

महत्‍वपूर्ण बिंदु

  • दक्षिण-मध्य रेलवे (SCR) जोन भारतीय रेलवे का ऐसा पहला जोन है, जिसने ऊर्जा तटस्थ रेलवे स्टेशनों की अवधारणा अपनाई है।
  • इसी नीति के तहत चेन्‍नई सेंट्रल रेलवे स्टेशन अपने 13 स्टेशन भवनों पर सौर पैनल लगाकर अपनी 100 प्रतिशत ऊर्जा आवश्यकताओं को पूर्ण करने का लक्ष्य प्राप्‍त किया है।
  • चेन्‍नई सेंट्रल रेलवे स्टेशन भारत का पहला रेलवे स्टेशन बन गया है, जिसने प्‍लेटफाॅर्म शेल्‍टर पर सौर पैनल स्थापित किया है।
    • इन सौर पैनलों के माध्यम यह स्टेशन दिन की 100 प्रतिशत ऊर्जा आवश्यकता को पूर्ण करता है।
  • इस रेलवे स्टेशन में 1.5 मेगावाॅट की सौर ऊर्जा झमता स्थापित की गई है।

भारत में सौर ऊर्जा से संचालित अन्‍य रेलवे स्टेशन

  • रेल मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार, जनवरी, 2021 तक विभिन्‍न स्टेशनों और प्रशासनिक भवनों की छतों पर 111 मेगावाॅट सौर क्षमता स्थापित की जा चुकी है।
  • हावड़ा रेलवे स्टेशन पर 5 मेगावाॅट का रूफटाॅफ सोलर प्‍लांट।
  • कटरा रेलवे स्टेशन पर 1 मेगावाॅट रूफटॉफ सोलर प्‍लांट 
  • आधुनिक कोच फैक्‍ट्री (रायबरेली, उत्तर प्रदेश) में 3 मेगावाॅट की भूमि आधारित सौर परियोजना।
  • जून, 2021 में मध्यप्रदेश के बीना में सौर ऊर्जा के माध्यम से भारतीय रेलवे के कर्षण नेटवर्क को सीधे बिजली देने के लिए एक पायलट सौर परियोजना प्रारंभ की गई है।
  • सितंबर, 2020 में हरियाणा के दीवाना में भूमि आधारित 2 मेगावाॅट की पायलट सौर परियोजना प्रारंभ की गई।

निष्कर्ष

  • भारतीय रेलवे शुद्ध शून्‍य उत्‍सर्जन एवं ग्रीन रिस्टार्ट की दिशा में तेजी से बढ़ रही है। चेन्‍नई सेंट्रल रेलवे की यह नवीन पहल इस दिशा में सकारात्‍मकता के साथ-साथ लक्ष्य उन्‍मुक्तता लाएगी।

संकलन -  अशोक कुमार तिवारी
 


Comments
List view
Grid view

Current News List