Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 29 2021

कृषि और खाद्य सुरक्षा पर आपदाओं और संकटों का प्रभाव 2021 :FAO

वर्तमान संदर्भ

  • 18 मार्च, 2021 को खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO) के द्वारा एक नई रिपोर्ट ‘‘ कृषि और खाद्य सुरक्षा पर आपदाओं और संकटों का प्रभाव :2021" जारी की गई है।

प्रमुख बिंदु 

  • खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO) ने इस रिपोर्ट में लगातार बढ़ रही प्राकृतिक आपदाओं एवं अन्य संकटों से कृषि के साथ-साथ खाद्य सुरक्षा पर पड़ने वाले प्रभावों  का भी अध्ययन किया है।
  • FAO ने पहली बार इस रिपोर्ट में आर्थिक नुकसान को कैलोरी और पोषण के समतुल्‍य मापने का प्रयास किया है।

रिपोर्ट के बारे में 

  • रिपोर्ट के अनुसार, इतिहास में कृषि-खाद्य प्रणालियों को, पहले कभी इस स्तर पर जंगलों में बड़े पैमाने पर आग, चरम मौसम की घटनाओं, टिड्डी दलों के असाधारण हमलों और उभरते जैविक खतरों का सामना नहीं करना पड़ा है, जैसा कि कोविड-19 महामारी के दौरान वर्ष 2020 में हुआ।
  • FAO द्वारा किए गए अध्ययन से निम्न निष्कर्ष सामने आते हैं-
  • खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO)  के अनुसार, वर्ष 1970 और 1980 के दशक की तुलना में, आपदाओं की घटनाओं में तीन गुना बढ़ोत्तरी हुई है।

  • हाल के वर्षों में प्राकृतिक आपदाओं एवं संकटों की आवृत्ति, तीव्रता एवं जटिलता में वृद्धि हुई है।
  • इन आपदाओं के कारण कृषि पर आधारित आजीविकाएं बर्बाद हो जाती हैं, जिनका आर्थिक दुष्प्रभाव, व्यक्ति से लेकर राष्ट्र तक को झेलना पड़ता है।
  • प्राकृतिक आपदाओं का दुष्प्रभाव पर्यटन, वाणिज्य, उद्योग जैसे अन्य क्षेत्रों की तुलना में, कृषि पर सबसे ज्यादा पड़ता है, जो लगभग 63 फीसदी है।

अधिकतम जोखिम वाले क्षेत्र 

  • सबसे कम विकसित और निम्न से मध्य आय वाले देशों को सर्वाधिक आपदाओं का सामना करना पड़ा है।
  • वर्ष 2008 से 2018 तक प्राकृतिक आपदाओं के कारण विकासशील अर्थव्यवस्थाओं के कृषि क्षेत्र में फसल उत्पादन में कमी और मवेशी जीवन को क्षति पहुंचने से 108 अरब डॉलर का नुकसान हुआ।
  • कृषि उत्पादन में गिरावट का सबसे बड़ा और अहम कारण सूखा बताया गया है, जिसके बाद बाढ़, तूफान, विनाशकारी कीट, बीमारियां और जंगलों में अाग लगने की घटना अन्य कारण हैं।
  • इसी अवधि में, एशिया सर्वाधिक सुभेद्य क्षेत्र रहा और उसे 3 से 49 अरब डॉलर की हानि उठानी पड़ी।
  • इसके उपरांत अफ्रीका और लैटिन अमेरिका व कैरेबियाई क्षेत्र को क्रमश : 30 अरब डॉलर और 29 अरब डॉलर का नुकसान हुआ है।
  • समय पर बारिश न होने के कारण फसल उत्पादन और पशुधन को 34 प्रतिशत के नुकसान, जबकि जैविक आपदाओं से 9 प्रतिशत गिरावट का अनुमान व्यक्त किया गया है।
  • इस बीच, कोविड-19 महामारी के कारण मौजूदा समस्याओं का आकार और भी बढ़ा है।

खाद्य सुरक्षा पर प्रभाव :

  • प्राकृतिक आपदाओं की वजह से न केवल देशों की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचता है, बल्कि खाद्य व पोषण सुरक्षा के समक्ष भी गंभीर संकट उत्पन्न हो जाता है।
  • यह पहली बार है जब FAO के द्वारा इस रिपोर्ट में आर्थिक नुकसान को कैलोरी और पोषण के समतुल्य मापा गया है। 
  • फसल और पशुधन उत्पादन में नुकसान की वजह से, मध्य आय और कम विकसित देशों में वर्ष 2008 से 2018 तक प्रतिवर्ष 6.9 ट्रिलियन किलो-कैलोरी का नुकसान हुआ है।
  • यह नुकसान 70 लाख वयस्कों की वार्षिक कैलोरी खपत के बराबर था।

आगे की राह 
अत :  FAO  की रिपोर्ट के अनुसार, सहनक्षमता और आपदा जोखिम न्यूनीकरण में निवेश किया जाना आवश्यक है। डेटा संग्रहण और विश्लेषण की मदद से तथ्य आधारित कार्यवाही को प्रोत्साहन दिया जा सकता है,जिससे एक टिकाऊ भविष्य के लिए कृषि की अहम भूमिका को सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी।
 

खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO):

  • खाद्य और कृषि संगठन (FAO) संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष एजेंसी है।
  • FAO का उद्देश्य सबके लिए खाद्य सुरक्षा हासिल करना है।
  • FAO की स्थापना 16 अक्टूबर, 1945 को क्यूवेक सिटी, कनाडा में हुई थी।
  • इसका मुख्यालय रोम (इटली) में है।
  • वर्तमान में इसके महानिदेशक चीन के क्यू डोंग्यू हैं।
  • FAO का आदर्श वाक्य '' let there be bread" है।
  • FAO के द्वारा कृषि, खाद्य सुरक्षा एवं पोषण से संबंधित निम्नलिखित कार्य किए जाते हैं-
  • अंतरराष्ट्रीय समझौतों और सम्मेलनों के लिए सर्वश्रेष्ठ मानदंडों को स्थापित करते हुए सभी भागीदारों के साथ मिलकर कार्य करना।
  • अध्ययन, रिपोर्ट और सूचनाओं का प्रकाशन करना, जैसे-‘‘द स्टेट ऑफ फूड सिक्योरिटी एंड न्यूट्रीशन इन द वर्ल्ड ’’ रिपोर्ट।
  • क्षमता विकास और जागरूकता बढ़ाने वाले कार्यक्रम बनाना और उनका समर्थन करना।
  • वैश्विक स्तर पर डेटाबेस और सूचना प्रणालियों का विकास व समर्थन करना, जैसे कार्य किए जाते हैं।

लेखक- विकास प्रताप सिंह
 


Comments
List view
Grid view

Current News List