Contact Us - 0532-246-5524,25 | 9335140296
Email - ssgcpl@gmail.com
|
|

Post at: Sep 28 2021

पीसफुल मिशन, 2021

वर्तमान परिप्रेक्ष्य

  • 20 सितंबर, 2021 को शंघाई सहयोग संगठन (SCO) सदस्य देशों के संयुक्त सैन्‍य अभ्यास के छठे संस्करण ‘पीसफुल मिशन, 2021’ का आयोजन दक्षिण पश्चिमी रूस के ओरेनबर्ग में प्रारंभ हुआ। 
  • यह संयुक्त सैन्‍य अभ्यास 24 सितंबर, 2021 को संपन्‍न हुआ।
  • इस सैन्‍य अभ्यास को सैन्‍य बातचीत और आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए वैश्विक सहयोग में एक ऐतिहासिक घटना के रूप में वर्णित किया जा रहा है।
  • इस द्विवार्षिक सैन्‍य अभ्यास का पिछला संस्करण, वर्ष 2018 में आयोजित किया गया था।

उद्देश्य

  • एससीओ सदस्य राष्ट्रों के मध्य घनिष्ठ संबधों को बढ़ावा देना।
  • बहुराष्ट्रीय सैन्‍य टुकड़ियों की कमान संभालने के लिए सैन्‍य कर्मियों की क्षमताओं काे बढ़ाना।
  • पेशेवर आपसी संपर्क बढ़ाना।
  • अभ्यास और प्रक्रियाओं की आपसी समझ विकसित करना।
  • संयुक्त कमान और नियंत्रण संरचनाओं की स्थापना करना।
  • आतंकवादी खतरों का उन्‍मूलन करना।

महत्‍वपूर्ण बिंदु

  • यह बहुपक्षीय आतंकवाद रोधी द्विवार्षिक अभ्यास है।
  • यह अभ्यास एससीओ (SCO) देशों के मध्य सैन्‍य रणनीति का हिस्सा है।
  • यह अभ्यास शहरी वातावरण में अभियानगत और सामरिक स्तर पर संयुक्त आतंकवाद विरोधी अभियानों पर आधारित है।
  • इस अभ्यास में सभी एससीओ सदस्य देशों की सेनाओं एवं वायु सेनाओं ने भाग लिया।
  • बेलारूस ने इस संयुक्त सैन्‍य अभ्यास में पहली बार भाग लिया। (एससीओ से बाहर का सदस्य)

 

* गैर- एससीओ देश

  • उद््घाटन समारोह की शुरुआत सभी भाग लेने वाले देशों की टुकड़ियों द्वारा प्रभावशाली परेड के साथ हुई।
  • इस सैन्‍य अभ्यास में कुल 3-4  हजार सैन्‍य कर्मियों ने भाग लिया।
  • 200 सदस्यों के भारतीय दल में 38 कर्मी वायु सेना के हैं।
  • भारतीय दल को दो आईएल-76 (IL - 76) विमानों द्वारा अभ्यास क्षेत्र में भेजा गया।

 

संकलन - अशोक कुमार तिवारी


Comments
List view
Grid view

Current News List